निपुण भारत मिशन 2022: निपुण भारत कार्यन्वयन प्रक्रिया, NIPUN BHARAT MISSION कार्यन्वयन प्रक्रिया

NIPUN BHARAT MISSION | निपुण भारत मिशन 2022 | NIPUN Bharat Yojana | निपुण भारत 2022 : हम सभी जानते हैं कि देश के विकास के लिए शिक्षा सबसे महत्वपूर्ण सेक्टर होता है जिसके लिए भारत सरकार नई नई नीतियों और योजनाओं के जरिए शिक्षा के क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए निरंतर प्रयास करती है जिससे कि देश में शिक्षा के स्तर को गुणवत्तापूर्ण और बेहतर बनाया जा सके।

इसी लक्ष्य से भारत की केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय के द्वारा NIPUN BHARAT MISSION का शुभारंभ किया गया है जिसके तहत प्राइमरी कक्षा के छात्रों को संखायात्मकता और आधारभूत साक्षारता के ज्ञान को बच्चों को अधिग्रहण कराने के लिए एक अच्छा वातावरण प्रदान किया जाएगा ताकि बच्चों के बेसिक नॉलेज को मजबूत किया जा सके। इस योजना के संचालन से सभी छात्र शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन देने में सफल होंगे। निपुण भारत योजना का उद्देश्य लाभ और विशेषताएं, निपुण भारत कार्यन्वयन प्रक्रिया, Nipun Bharat Mission Registration से सभी संबंधित जानकारी आपको यहां बताई गई है।

Table of Contents

NIPUN Bharat Yojana 2022 in Hindi

भारत के शिक्षा मंत्रालय के द्वारा 5 जुलाई वर्ष 2021 को NIPUN Bharat Scheme का शुभारंभ किया गया था, निपुण भारत योजना के माध्यम से देश के सभी प्राइमरी स्कूल के छात्रों की शिक्षा के नींव को मजबूत किया जाएगा, इस योजना के तहत प्राइमरी कक्षा तक के छात्रों को संख्यात्मक और साक्षारता का अच्छा ज्ञान प्रदान करना है जिससे कि वह सभी छात्र वर्ष 2027 तक लिखने पढ़ने और अंक गणित के प्रश्नों को हल करने में सक्षम हो ताकि बच्चों के बुनियादी ढांचे को अच्छे से मजबूत किया जा सके और वे अपनी आगे की शिक्षा को अच्छे से समझ सके। निपुण भारत योजना के अंतर्गत देश के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को सहयोग दिया जाएगा।

Nipun Bharat Mission Overview

योजना का नामनिपुण भारत मिशन 2022
योजना का ऐलान5 जुलाई वर्ष 2021
साल2022
विभागशिक्षा और साक्षरता विभाग
शुरू की गयीशिक्षा मंत्रालय के द्वारा
योजना का उद्देश्यछात्रों को शिक्षा के प्रति प्रोत्सहित करना
ऑफिशियल वेबसाइटhttps://nipunbharat.education.gov.in/
Nipun Bharat Mission Overview

NIPUN Bharat Scheme का उद्देश्य

केंद्र सरकार का निपुण भारत योजना को शुरू करने का उद्देश्य देश के सभी प्राइमरी कक्षा में पढ़ रहे छात्रों को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहन करके उनके संख्यात्मक और साक्षारता के बुनियादी शिक्षा स्तर को मजबूत करना है। क्योंकि रिसर्च में पाया गया है कि आज भी कई ऐसे बच्चे हैं जो बेसिक ना क्लियर होने के कारण आगे पढ़ाई में कमजोर हो जाते हैं ऐसे में इन छात्रों के मानसिक विकास के लिए इस योजना को शुरू किया गया है। स्कूल शिक्षा व साक्षारता विभाग के द्वारा इस योजना का संचालन किया जाएगा।

NIPUN Bharat Mission
NIPUN Bharat Mission

NIPUN BHARAT MISSION के लाभ और विशेषताएं

  • वर्ष 2020 में आई नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को बेहतर बनाने के लिए ही निपुण भारत मिशन की शुरुआत की गई है।
  • Nipun bharat programme के तहत प्राइमरी कक्षा के छात्रों को संख्यात्मक और साक्षारता का अच्छा ज्ञान प्रदान किया जाएगा।
  • निपुण भारत मिशन के तहत छात्रों को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से वर्ष 2027 तक सभी प्राइमरी कक्षा के छात्रों को लिखना पढ़ना और अंक गणित के प्रश्नों को हल करने के लिए सक्षम बनाना है।
  • केंद्र सरकार ने शिक्षा के स्तर में गुणवत्ता लाने और शिक्षा को बेहतर करने के लिए ही इस मिशन को शुरू किया है।
  • देश के सभी सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों को इस योजना के तहत जोड़ा जाएगा।
  • निपुण भारत स्कीम से बच्चों के बुनियादी नींव को मजबूत किया जाएगा जिससे कि बच्चों को उनकी आगे की शिक्षा को समझने में आसानी हो।
  • निपुण भारत 2022 को केंद्र सरकार जल्द ही देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में लागू करेगी।
  • निपुण भारत स्कीम के तहत सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में पांच स्तरीय तंत्र की नींव रखी जाएगी, जिसमें की राज्य ब्लॉक राष्ट्रीय जिला तथा स्कूल स्तर का संचालन होगा।
  • इस मिशन के तहत 3 वर्ष से लेकर 9 वर्ष के बच्चों पर अधिक ध्यान दिया जाएगा।
  • इस मिशन के जरिए बच्चों के मूलभूत शिक्षा पर ध्यान एकत्रित किया जाएगा।
  • निपुण भारत मिशन के कार्यान्वयन लिए सरकार ने 2688.18 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया है।
  • बच्चों के भाषा साक्षरता और गणितीय कौशल की नींव को बचपन से ही मजबूत करना जरूरी है ताकि आने वाले समय में बच्चे बेहतर शिक्षा प्राप्त कर सकें।
  • छात्रों के शारीरिक विकास के साथ ही मानसिक विकास के लिए जरूरी है कि प्रारंभिक साक्षरता का विकास बचपन से ही हो।
  • छात्रों का 6 वर्ष तक 85% मानसिक विकास हो जाता है ऐसे में जरूरी है कि उनको मूलभूत ज्ञान तब तक मिल चुका हो।
  • Nipun Bharat Mission के माध्यम से बच्चों को इफेक्टिव कम्युनिकेटर बनाया जाएगा।
  • इसके अंतर्गत मौखिक और गैर मौखिक संचार को समझाया जाएगा उनके लिए इंवाल्विंग लर्निंग का वातावरण बनाया जाएगा।
  • बच्चों को कई तरह के टास्क और प्रोजेक्ट देकर सिखाया जाएगा।
  • फिजिकल इंवॉल्वमेंट और कहानियों से उन्हें प्रेरित किया जाएगा।

NIPUN Bharat Yojana 2022 कार्यन्वयन

केंद्र सरकार का निपुण भारत मिशन पहला ऐसा मिशन है जिसके तहत बच्चों के शिक्षा के बेसिक नींव को मजबूत किया जा रहा है। इस मिशन के जरिए सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में पांच स्तरीय तंत्र की नींव रखी जाएगी, जिसमें की राज्य, ब्लॉक, राष्ट्रीय, जिला तथा स्कूल स्तर का संचालन होगा और इन पांच स्तरीय तंत्र में नोडल अधिकारी द्वारा नजर रखी जाएगी। इसके साथ ही मिशन निदेशक और एजेंसी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय स्तर पर कार्य किए जाएंगे।

NIPUN Bharat Yojana के भाग

  • इंट्रोडक्शन
  • गणित कौशल और मूलभूत संख्यात्मक
  • साक्षरता और मूलभूत भाषा को समझना
  • शिक्षा और सीखना
  • लर्निंग एसेसमेंट
  • योग्यता आधारित शिक्षा
  • शिक्षण और शिक्षक की भूमिका
  • राष्ट्रीय मिशन के दृष्टिकोण और पहलू
  • विद्यालयों का गठन
  • निपुण मिशन की सामरिक योजना
  • DIET और SCERT के जरिए शैक्षणिक साहित्य
  • डिजिटल संसाधन और NDEAR का लाभ
  • निपुण मिशन की स्थिरता

ये भी पढ़िए

National Mission Bhumika और कार्य

निपुण भारत मिशन के तहत मूलभूत शिक्षा पर ध्यान दिया जा रहा है, वर्ष 2027 तक बच्चों के बुनियादी शिक्षा की तरफ बेहतर ध्यान देना है और बच्चों के संख्यात्मक और साक्षारता पर बेहद ध्यान देना है। नेशनल मिशन का प्रसाशनिक संचरण 5 स्तर के जरिए किया जाएगा।

राष्ट्रीय/ नेशनल लेवल:-

राष्ट्रीय लेवल मिशन राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित किए जाएंगे जिसका संचालन स्कूल शिक्षा और साक्षारता विभाग के जरिए किया जाएगा। नेशनल लेवल में बच्चों के अस्सेस्मेंट, डॉक्युमनेट्स बनाने, लर्निंग गैप्स, लर्निंग स्ट्रेटेजी, लर्निंग मैट्रिक्स को पूरा करने जैसे कार्य को किया जाएगा।

स्टेट लेवल:-

स्टेट लेवल का आयोजन राज्य स्तर पर किया जाएगा जिसका संचालन शिक्षा विभाग के द्वारा किया जाएगा। इसके साथ ही स्टेट रिपेयरिंग कमेटी का गठन करके राज्य स्तर पर कार्य किए जाएंगे और राज्यों के सेक्रेटरी के द्वारा काम को मोनीटाइज किया जाएगा।

डिस्ट्रिकट लेवल:-

डिस्ट्रिक्ट लेवल का आयोजन डिस्ट्रिक्ट स्तर पर किया जाएगा, जिसका संचालन डिप्टी कमिश्नर या डिप्टी मजिस्ट्रेट द्वारा किया जाएगा। डिस्ट्रिक्ट लेवल पर इसे शुरू करने के लिए डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन ऑफिसर, जिला स्वास्थ्य अधिकारी और कमेटी के सीईओ जैसे आदि सदस्य बनाए जाते हैं।

ब्लॉक/क्लस्टर लेवल:-

ब्लॉक लेवल का आयोजन ब्लॉक स्तर पर किया जाता है, जिसका संचालन  ब्लॉक रिसोर्सेज पर्सन या एजुकेशन ऑफिसर के द्वारा किया जाता है।

स्कूल मैनेजमेंट कमिटी और कम्युनिटी पार्टिसिपेशन:-

स्कूल मैनेजमेंट कमेटी और कम्युनिटी का आयोजन स्कूल स्तर पर किया जाता है जिसके जरिए शिक्षा के प्रति जागरूकता फैलाई जाती सभी स्कूलों के शिक्षक और अभिभावकों के द्वारा मिशन में सहयोग दिया जाता है।

Foundation Literacy और Numeracy के प्रकार

संखायात्मकआधारभूत साक्षारता
Number and operation on numberComprehension
MeasurementOral Language
Data handlingDecoding
Pre number conceptsWriting
Mathematical techniquesReading fluency
Shape and pattern questionsListening

NIPUN Bharat Yojana के तहत संख्यात्मक और मूलभूत साक्षारता में सुधार

निपुण भारत योजना के तहत संख्यात्मक और मूलभूत साक्षारता में सुधार लाने के लिए नई शिक्षा नीति में कुछ बदलाव किए गए हैं जो कि नीचे निम्न प्रकार से बताए गए हैं।

अध्यापकों द्वारा छात्रों को प्रोत्साहन मिलना:-


इस मिशन के तहत अध्यापकों द्वारा सभी छात्रों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा। कई बार ऐसा देखा गया है कि अध्यापक बच्चों को प्रोत्साहित नहीं करते हैं जिस वजह से बच्चा कमजोर रह जाता है लेकिन इस मिशन के तहत बच्चों को बेहतर तरीके से चित्र व पोस्टर के माध्यम से पढ़ाया जाएगा और उन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा जिससे कि उनकी मानसिक बुद्धि का विकास हो।

लर्निंग एसेसमेंट:-

लर्निंग एसेसमेंट के द्वारा बच्चों की सीखने की क्षमता का आकलन किया जाएगा और फिर जो बच्चा कमजोर है उसके लिए ज्यादा मेहनत की जाएगी जिससे कि वह 9 वर्ष की उम्र पूर्ण करने से पहले अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकें और अपने बेसिक नॉलेज को मजबूत बना सके।

विद्यालय मॉडल:-

बच्चों के लिए विद्यालय जाना अति आवश्यक होता है लेकिन विद्यालय का वातावरण और मॉडल जितना अच्छा होगा बच्चे उससे उतना ज्यादा प्रभावित होंगे इसके लिए विद्यालय मॉडल पर भी कार्य किया जाएगा।

NIPUN BHARAT MISSION हितधारकों की सूची

  • देश के सभी राज्य व केंद्र शासित प्रदेश
  • सीबीएसई
  • सेंट्रल स्कूल ऑर्गेनाइजेशन
  • मुख्य शिक्षक
  • अभिभावक और कम्युनिटी
  • स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग
  • नेशनल काउंसलिंग ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग
  • डिस्ट्रिक्ट इंस्टिट्यूट ऑफ़ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग
  • सिविल सोसायटी ऑर्गेनाइजेशंस
  • Non-Government ऑर्गेनाइजेशन
  • प्राइवेट स्कूल
  • जिला शिक्षा अधिकारी और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी
  • ब्लॉक रिसर्च सेंटर और क्लस्टर रिसर्च सेंटर

NIPUN Bharat Yojana | FAQs

Q1. निपुण भारत मिशन की शुरुआत कब की गई थी?

इस मिशन की शुरुआत भारत के शिक्षा मंत्रालय के द्वारा 5 जुलाई वर्ष 2021 को की गई थी।

Q2. निपुण भारत का फुल फॉर्म क्या है?

National Initiative For Proficiency in Reading with Understanding & Numeracy

Q3. निपुण भारत स्कीम का मुख्य उद्देश्य क्या है?

निपुण भारत स्कीम का मुख्य उद्देश्य 3 वर्ष से 9 वर्ष के बच्चों का बेसिक मजबूत करना है।

Q4. निपुण भारत 2022 के लिए सरकार ने कितना बजट निर्धारित किया है?

सरकार द्वारा इस स्कीम के लिए 2688.18 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.